blog regional

Laxman Gaikwad

इन आदिवासियों का शीर्षक विमुक्त घुमंतू आदिवासी होना चाहिए

Posted by | blog regional | 4 Comments

हमारे देश में आजादी के पहले आप राजी जनजाति के लिए 80173 में कानून बना उस कानून के तहत मां बाप बहन भाई बच्चे बूढ़े सभी जन्म से अपराधी ही…

Read More
parichay_das

साहित्य-संस्कृति पर समकालीन विचार

Posted by | blog regional | No Comments

सामाजिक व आर्थिक व्यवस्था की जटिल स्थिति को साहित्य- भाषा की संरचना से जानना और उभरते हुए अनेक संस्कृति – केन्द्रों की बहुलता को समझना आवश्यक है । इसे मात्र…

Read More
parichay_das

साहित्य का सामाजिक विवेक

Posted by | blog regional | No Comments

साहित्य में अन्वेषण का आधार भिन्न-भिन्न होता है। अब यहां यह बात स्पष्ट करनी जरूरी है कि यह आधार हमेशा भौतिक ही नहीं, बल्कि दार्शनिक, वर्गीय व राष्ट्रीय भी होता…

Read More